Story Of Two Friends And A Bear In Hindi – दो मित्र और भालू की कहानी

 

Story Of Two Friends And A Bear In Hindi

दोस्तों, आज हम Story Of Two Friends And A Bear In Hindi (दो मित्र और भालू की कहानी) बता रहे है जो की पंचतंत्र का एक बहुत ही चर्चित कहानी है। ये कहानी दो दोस्तों की है और दोस्ती के संबंध में सीख देती है। पढ़िए Do DostAur Bhalu Ki Kahani

सोहन और मोहन दो दोस्त

एक गाँव में सोहन और मोहन दो दोस्त रहते थे। एक बार वे दोनों नौकरी की तलाश में परदेश की यात्रा पर निकले। वे दिन भर चलते रहे। शाम हो गई और फिर रात घिर आई। किंतु, उनकी यात्रा समाप्त न हुई। दोनों एक जंगल से गुजर रहे थे। जंगल में अक्सर जंगली जानवरों का भय रहता है। सोहन को भय था कि कहीं किसी जंगली जानवर से उनका सामना न हो जाए।

वह मोहन से बोला, “मित्र! इस जंगल में अवश्य जंगली जानवर होंगे। यदि किसी जानवर ने हम पर हमला कर दिया, तो हम क्या करेंगे?”

मित्र डरो नहीं, मैं तुम्हारे साथ हूँ

सोहन बोला, “मित्र डरो नहीं। मैं तुम्हारे साथ हूँ। कोई भी ख़तरा आ जाये, मैं तुम्हारा साथ नहीं छोडूंगा। हम दोनों साथ मिलकर हर मुश्किल का सामना कर लेंगे।”

एक भालू उनके सामने आ गया

इसी तरह बातें करते हुए वे आगे बढ़ते जा रहे थे कि अचानक एक भालू उनके सामने आ गया। दोनों दोस्त डर गए। भालू उनकी ओर बढ़ने लगा। सोहन दर के मारे तुरंत एक पेड़ पर चढ़ गया। उसे सोचा कि मोहन भी पेड़ पर चढ़ जायेगा। लेकिन मोहन को पेड़ पर चढ़ना नहीं आता था। वह असहाय सा नीचे ही खड़ा रहा।

मोहन जमीन पर गिर पड़ा

भालू उसके नज़दीक आने लगा। मोहन डर के मारे पसीने-पसीने होने लगा। लेकिन डरते हुए भी वह किसी तरह भालू से बचने का उपाय सोचने लगा। सोचते-सोचते एक उपाय उसके दिमाग में आ गया। वह जमीन पर गिर पड़ा और अपनी सांस रोककर एक मृत व्यक्ति की तरह लेटा रहा।

मोहन के चारों ओर घूमकर वह उसे सूंघने लगा

भालू नज़दीक आया। मोहन के चारों ओर घूमकर वह उसे सूंघने लगा। पेड़ पर चढ़ा सोहन यह सब देख रहा था। उसने देखा कि भालू मोहन के कान में कुछ फुसफुसा रहा है। कान में फुसफुसाने के बाद भालू चला गया।

Story Of Two Friends And A Bear In Hindi
भालू तुम्हरे कान में कुछ फुसफुसा रहा था

भालू के जाते ही सोहन पेड़ से उतर गया। मोहन भी तब तक उठ खड़ा हुआ। सोहन ने मोहन से पूछा, “मित्र! जब तुम जमीन पर पड़े थे, तो मैंने देखा कि भालू तुम्हरे कान में कुछ फुसफुसा रहा है। क्या वो कुछ कह रहा था?”

“हाँ, भालू ने मुझसे कहा कि कभी भी ऐसे दोस्त पर विश्वास मत करना, तो तुम्हें विपत्ति में अकेला छोड़कर भाग जाये।”

सीख: जो दोस्त संकट में छोड़कर भाग जाये, वह भरोसे के काबिल नहीं।

दोस्तों, आपको ये ‘Story Of Two Friends In Hindi‘ कैसी लगी? आप अपने comments के द्वारा हमें अवश्य बतायें। ये ‘Bear & The Two Friends Story In Hindi’ पसंद आने पर Like और Share करें। ऐसी ही और  Famous Short Moral Story In Hindi पढ़ने के लिए हमें Subscribe कर लें। Thanks

नई post की जानकारी के लिए कृपया हमें facebooktwitter और Instagram पर भी फॉलो करे ईमेल से subscribe करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here