Who is the father of Geography

आपमे से अधिकतर लोगो ने बचपन मे भूगोल विषय को पढा होगा, जिसमे आपने हमारे ग्रह पृथ्वी तथा बाह्य सौरमंडल के बारे मे महत्वपूर्ण बातो को जाना भी होगा। शायद उस समय आपके मन मे इस बात को जानने का कौतूहल होगा के आखिर किस ने भूगोल के बारे मे सबसे पहले खोजबिन की होगी तथा विभिन्न तथ्यो को हमारे सामने रखा जिस से हम आज भूगोल को आसानी से समझ पाते है।

आपको अगर सचमे जानना है के किस ने भूगोल का आविष्कार किया था तथा उनका व्यक्तिगत परिचय क्या था, तो आप की उत्सुकता को यहाँ पर बिलकुल सही समाधान मिलने वाला है।

लेख द्वारा हम आपको भूगोल के जनक के बारे मे जानकारी देंगे तथा उनके द्वारा प्रस्तुत की गई तमाम भौगोलिक जानकारी और तथ्यो को आपके सामने संक्षेप मे रखने का प्रयास करेंगे। आशा है आपको ये जानकारी काफी पसंद आएगी और भविष्य मे इसका आपको लाभ भी होगा।

‘Geography’ के जनक कौन है? जानिए विस्तार से – Father of Geography in Hindi

Father of Geography in Hindi

भूगोल के जनक का संक्षेप मे परिचय – Information About Father of Geography

संपूर्ण नाम (Full Name) एरेटोस्थेनेज।
जन्मस्थान (Birth Place) सिरेन (लीबिया)
जन्म (Date of Birth) इसवी सदी पूर्व २७६।
मुख्य रूप से पहचान (Well Known For) गणितज्ञ, भूगोल के आविष्कारक और जनक।
मुख्य किताबे (Books By Eratosthenes) एरेटोस्थेनेज जिओग्राफी, कैटस्टेरिस्मी, कॉन्स्टेलशन मिथ।
मृत्यू (Death) इसवी सदी पूर्व १९४।

 एरेटोस्थेनेज के शुरुवाती  जीवन  के बारे मे संक्षिप्त जानकारी – Brief Information About Eratosthenes

इसवी सदी पूर्व २७६ मे ग्रीक कॉलोनी नामक जगह पर सिरेन शहर मे एरेटोस्थेनेज का जन्म हुआ था, जो के आजके लिबिया देश का प्रमुख शहर माना जाता था।

आम तौर पर भूगोल के उपप्रकारो मे लिथोस्फीयर, हाइड्रोस्फीयर, बायोस्फीयर तथा एटमोस्फीयर शामिल होता है, एरेटोस्थेनेज वो पहले व्यक्ती थे जिन्होने इन सभी बातो के संबंधी संशोधन किया तथा दुनिया के सामने भूगोल की संकल्पनाओ को रखा।

भूगोल के अलावा शुरुवात से एरेटोस्थेनेज का झुकाव गणित विषय की और रहा, इसीलिए गणित के मदद से उन्होने कुछ बुनियादी भौगोलिक सिद्धांत से दुनिया को परिचित कराया जिसने उन्हे भविष्य मे भूगोल के जनक के रूप मे पहचान दिलाई।

एरेटोस्थेनेज और भूगोल – Eratosthenes And Geography

आपको बता दे एरेटोस्थेनेज वो पहले व्यक्ती थे जिन्होने ‘जिओग्राफी’ शब्द का इस्तेमाल किया था जो के ग्रीक शब्द है, इसका सही अर्थ ‘विश्व के बारे मे लिखना’ होता है। इनके शुरुवाती संशोधन मे इन्होने गरम तथा ठंडे प्रदेश, वातावरणीय सामान्य तापमान, भौगोलिक स्थिती इत्यादी का संशोधन और अभ्यास किया जिसमे इन्हे जो भी महत्वपूर्ण तथ्य प्राप्त हुए उसे उन्होने धीरे धीरे सबके सामने रखा था।

एरेटोस्थेनेज को भूगोल के प्रती इतना आकर्षण था के, इसी लिए शायद वे दुनिया के पहले इंसान बने जिसने विश्व का सटीक नक्शा बनाया था, जो की तत्कालीन स्थिती के अनुसार काफी सराहनीय बात थी।

विश्व विज्ञान और भूगोल को एरेटोस्थेनेज की सबसे बडी देन ये थी की उन्होने पृथ्वी मंडल/परिधि की गिनती सबसे पहले की थी जिसको उनकी किताब ‘जिओग्राफी’ द्वितीय संस्करण मे उन्होने उल्लेखित भी किया था।

इनके किताब मे पृथ्वी का महाद्वीप के आधार पर हुआ विभाजन, जलविभाग, विशिष्ट प्रदेश की भौगोलिक और वातावरणीय स्थिती आदी बातो का उल्लेख है। इसके अलावा क्रिस्टोफर कोलंबस ने भी एरेटोस्थेनेज द्वारा बनाए गए नक्शे की सहायता ली थी जिसके बदौलत वो नए प्रदेशो की खोज कर सके थे।

एरेटोस्थेनेज के भौगोलिक योगदान से जुडे महत्वपूर्ण मुद्दे – Eratosthenes Contribution to Geography

  • एरेटोस्थेनेज दुनिया के पहले इंसान थे जिन्होने विश्व का नक्शा बनाया था, तथा इनके द्वारा बनाए गए नक्शे मे अक्षांश और देशांतर से संबंधित रेखाए मौजूद थी जिससे हमे विभिन्न स्थानो को स्थापित करने मे सहायता मिल जाती है।
  • इनके द्वारा बनाया गया विश्व का नक्शा बहुत ही सटीक माना जाता है, जिसकी बदौलत बादमे हुए भूगोलवेत्ताओ को भूगोल संबधी संशोधन मे काफी ज्यादा सहायता मिली।
  • एरेटोस्थेनेज द्वारा नापी गई पृथ्वी की परिधि काफी अचूक मानी जाती है।
  • गणितज्ञ होने के कारण भूगोल के संशोधन मे एरेटोस्थेनेज को काफी मदद मिली, इसी वजह से इन्होने सिएन और अलेक्ज़ेंड्रिया के बीच का सटीक अंतर ज्ञात कर लिया था।
  • एरेटोस्थेनेज ने पृथ्वी के झुकाव का निश्चित काल भी ज्ञात किया था, जिस के बदौलत आज हमे लीप वर्ष का अनुमान लगाना संभव होता है।

निष्कर्ष:

विश्व मे वैसे तो बहुत सारे भूगोलवेत्ता हुए जिन्होने अपना योगदान देते हुए विभिन्न महत्वपूर्ण भौगोलिक बातो से विश्व को परिचित कराया पर एरेटोस्थेनेज ने, ना केवल भूगोल शब्द का आविष्कार किया बल्की उनके द्वारा हुई भूगोल से संबंधित खोज काफी सराहनीय और सटीक थी। जिसका विश्व भूगोल के इतिहास मे अलग तथा महत्वपूर्ण स्थान है। इसलिए इन्हे बडे आदर के साथ भूगोल के जनक के रूप मे विश्वभर मे पहचाना जाता है।

इस प्रकार से अबतक आपने भूगोल के जनक कौन है तथा उनसे जुडे अन्य महत्वपूर्ण जानकारी को जाना, आशा करते है के दी हुई जानकारी आपको काफी पसंद आई होगी। अन्य लोगो को इस जानकारी का लाभ पहुचाने हेतू लेख को अवश्य उनसे साझा करे, हमसे जुडे रहने हेतू बहुत बहुत धन्यवाद।

भूगोल के जनक के बारे मे अधिकतर बार पुछे जाने वाले सवाल – History Geography Quiz

Q. भूगोल के जनक के रूप मे किसे जाना जाता है? (Who is the father of Geography?)

जवाब: एरेटोस्थेनेज।

Q. ‘जिओग्राफी’ शब्द की खोज किसने की थी? (Who invented word ‘Geography’?)

जवाब: एरेटोस्थेनेज।

Q. भूगोल के जनक कौन से देश से संबंधित है? (Father of Geography is concerned with which country?)

जवाब: लिबिया।

Q. एरेटोस्थेनेज का जन्म तथा मृत्यू कब हुआ था? (Date of Birth and Death, about Father of Geography?)

जवाब: जन्म – इसवी सदी पूर्व २७६, मृत्यू – इसवी सदी पूर्व १९४।

Q. एरेटोस्थेनेज के पहली किताब का नाम क्या था? (First book name of Eratosthenes?)

जवाब: ‘जिओग्राफी’।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here