Table of Contents

हाइलाइट्स

  • ट्रैवल बिजनस में उतरने जा रहे हैं गौतम अडानी
  • क्लियरट्रिप में हिस्सेदारी खरीदने की घोषणा की
  • अभी फ्लिपकार्ट ग्रुप का हिस्सा है क्लियरट्रिप
  • सुपरएप और एयरपोर्ट मैनेजमेंट बिजनस में मिलेगी मदद

नई दिल्ली
भारत और एशिया के दूसरे सबसे बड़े रईस गौतम अडानी (Gautam Adani) अब ट्रैवल बिजनस में उतरने जा रहे हैं। अडानी ग्रुप (Adani Group) ने ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर क्लियरट्रिप प्राइवेट लिमिटेड (Cleartrip) में हिस्सेदारी खरीदने की घोषणा की। हालांकि कंपनी ने सौदा राशि का खुलासा नहीं किया। कोरोना महामारी (Covid-19 pandemic) के कारण देश में ट्रैवल पर कई पाबंदियां लगाई गई थी लेकिन अब इनमें काफी हद तक ढील दी जा चुकी है। क्लियरट्रिप दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ग्रुप (Flipkart Group) का हिस्सा है।

अडानी ग्रुप ने बताया कि उसने यह हिस्सेदारी प्रॉडक्ट्स और सर्विसेज की एक विस्तृत श्रृंखला के माध्यम से उपभोक्ताओं को सुखद यात्रा अनुभव प्रदान करने लिए की है। ग्रुप ने एक बयान में कहा, ‘हम क्लियरट्रिप प्राइवेट लिमिटेड में निवेश कर रहे है। यह ऑनलाइन ट्रैवल (ओटीए) मंच है और घरेलू ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ग्रुप का हिस्सा है।’ इस सौदे के नवंबर में पूरा होने की उम्मीद है।

Brimato: वैज्ञानिकों ने विकसित किया ‘ब्रिमैटो’, एक ही पौधे में लगते हैं बैंगन और टमाटर

क्या फायदा होगा
क्लियरट्रिप में हिस्सेदारी खरीदने से अडानी ग्रुप को सुपरएप और एयरपोर्ट मैनेजमेंट बिजनस में मदद मिलेगी। अडानी ग्रुप देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट ऑपरेटर बनकर उभरा है और उसका कहना है कि पैसेंजर्स की संख्या कोरोना पूर्व के स्तर के करीब पहुंच चुकी है। इस निवेश से अडानी ग्रुप और फ्लिपकार्ट ग्रुप के बीच पार्टनरशिप बढ़ेगी।

अडानी ने एक बयान में कहा कि क्लियरट्रिप प्लेटफॉर्म सुपरएप का हिस्सा होगा। फ्लिपकार्ट ऑनलाइन सर्विसेज प्राइवेट ने देश में सबसे बड़े वेयरहाउस बनाने के लिए अप्रैल में अडानी ग्रुप के साथ एक समझौता किया था। अडानी लॉजिस्टिक्स लिमिटेड मुंबई में 534,000 स्क्वायर फीट का फुलफिलमेंट सेंटर बना रही है जिसका आकार 11 फुटबॉल फील्ड्स के बराबर है। वह इसे लीड पर फ्लिपकार्ट को देगी। इस साल अडानी की नेटवर्थ में 121 फीसदी उछाल आया है।

Petrol Diesel Price: बीते 28 दिनों में 9.10 रुपये महंगा हुआ डीजल, आज भी भड़का

अंबानी और टाटा से टक्कर की तैयारी
इस डील से अडानी को टाटा ग्रुप (Tata Group) और देश के सबसे बड़े रईस मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Reliance Industries) के साथ टक्कर लेने में मदद मिलेगी। ये कंपनियां ऑल-इन-वन ई-कॉमर्स एप बना रही हैं। टाटा ग्रुप अपने कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स और सर्विसेज के लिए एक सुपरएप बना रहा है। रिलायंस ने जुलाई में लोकल सर्च इंडन जस्ट डायल लिमिटेड में कंट्रोलिंग स्टेक खरीदने की घोषणा की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here